समग्र शिक्षा अभियान 2.0: Samagra Shiksha Benefits, उद्देश्य एवं कार्यान्वयन

Samagra Shiksha Abhiyan:- केंद्र सरकार द्वरा देश के बच्चो का भविष्य उज्जवल बनाने के लिए निरंतर प्रयास किया जा रहा है । ताकि उन्हें शिक्षा के क्षेत्र में जागरूक किया जा सकें ।इसके लिए सरकार द्वरा विभिन्न योजनाओ का संचालन किया जाता है । इसी उद्देश्य से हाल ही सरकार द्वारा नई शिक्षा नीति भी आरंभ की गई है। जिसके तहत शिक्षा के क्षेत्र में विभिन्न प्रकार के बदलाव किए गए है। आज हम आपको केंद्र सरकार द्वरा शुरू की गई ऐसी ही एक योजना के बारे में बताने जा रहे है जिसका नाम समग्र शिक्षा अभियान-2.0 (Samagra Shiksha Abhiyaan ) है। इसके अंतर्गत शिक्षा के संपूर्ण आयामों को शामिल किया गया है। समग्र शिक्षा अभियान एक भारतीय सरकारी कार्यक्रम है ।जो  प्री-स्कूल से लेकर कक्षा 12 तक के सभी बच्चो को गुणवत्ता युक्त शिक्षा प्रदान करने के लिए शुरू किया गया है ।

इस लेख में हम आपके साथ समग्र शिक्षा अभियान के बारे विस्तार से चर्चा करेंगे । जैसे – इसका उद्देश्य, लाभ और विशेषताएं, कार्यान्वयन की स्थिति और अन्य जानकारी आदि । अधिक जानकारी के लिए आपको बता दें की  समग्र शिक्षा अभियान UPSC (Union Public Service Commission) IAS के लिए सबसे महत्वपूर्ण विषयों में से एक है। यह अभियान UPSC Exam  में उम्मीदवारों के लिए बहुत उपयोगी होगा।

Samagra Shiksha Abhiyan

देश के सभी बच्चो की शिक्षा पर ध्यान देते हर सरकार द्वारा 2020 में नई शिक्षा आरम्भ की गई। इस नीति के अंतर्गत समग्र शिक्षा अभियान को शुरू किया गया है । यह अभियान एक भारतीय सरकारी कार्यक्रम है। केंद्र सरकार द्वारा 4 अगस्त 2021 को Samagra Shiksha Abhiyan-2.0 को मंजूरी प्रदान कर दी गई है। इस योजना के माध्यम से पूर्व प्राथमिक स्तर (प्री स्कूल) से लेकर 12वीं कक्षा तक के सभी आयामों को शामिल किया जाएगा। इसमें सर्व शिक्षा अभियान (SSA), राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान (RMSA), और शिक्षक शिक्षा (TE) की योजनाओं को एकीकृत किया गया है ।

समग्र शिक्षा अभियान-2.0 के अंतर्गत आने वाले वर्षों में चरणबद्ध तरीके से स्कूल में बाल वाटिका, स्मार्ट कक्षा, प्रशिक्षित शिक्षकों की व्यवस्था की जाएगी। इसके अलावा एक आधारभूत ढांचा, व्यवसायिक शिक्षा एवं रचनात्मक शिक्षण विधियों की व्यवस्था की जाएगी। तथा स्कूलों में विविध पृष्ठभूमि, बहुभाषी जरूरत एवं बच्चों की विभिन्न क्षमताओं पर जोर देकर वातावरण तैयार किया जायेगा । इसके अतिरिक्त इस योजना के माध्यम से शिक्षक पाठ्य सामग्री की व्यवस्था भी की जाएगी। जिसके लिए प्रत्येक बच्चे पर 500 रूपये की राशि तय की गई है । यह योजना नई शिक्षा नीति की सिफारिशों के अनुरूप बनाई गई है। जिसके साथ समग्र शिक्षा अभियान के दायरे को शिक्षा पर सतत विकास लक्ष्यों को भी शामिल किया गया है। Samagra Shiksha Abhiyan-2.0 के तहत अगले 5 सालों के लिए गुणवत्ता युक्त और समावेशी शिक्षा पर ध्यान दिया जाएगा। बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना

Samagra Shiksha Abhiyan का कार्यान्वयन भारतीय राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशो में संचालित होता है । इसके अंतर्गत विभिन्न शिक्षा योजनाओ और कार्यक्रमों को एकत्रित किया जाता है  ताकि एक समग्र और संगठित शिक्षा प्रणाली की स्थापना की जा सकें । इसके कार्यान्वयन में शिख्सा के सभी स्तरों पर शिक्षा की पहुँच , शिक्षा के गुणवत्ता और शिक्षा में समावेशीता को बढ़ावा देने के लिए नीतियों , योजनाओ और कार्यक्रमों को लागू किया जाता है । इसमें शिक्षको की प्रशिक्षण , शिक्षा सामग्री की प्राप्ति , शैक्षिक संसाधनों की प्रदान और शैक्षिक नीतियों का लागुकरण शामिल होता है । समग्र शिक्षा अभियान का कार्यान्वयन स्थानीय स्तर पर भी होता है ताकि विभिन्न क्षैत्रों और समुदायों की आवश्यकता को ध्यान में रखा जा सकें ।

इस शिक्षा अभियान के कार्यान्वयन हेतु स्कूली शिक्षा में सुधार करने के लिए सरकार द्वारा प्रबंध सिस्टम आरंभ किया गया है। जिस पर राज्य एवं केंद्र शासित प्रदेश समग्र शिक्षा के अंतर्गत भारत सरकार की विज्ञप्तियों, अनुमोदित परिव्यय, udise के अनुसार कवरेज, अनुमोदन कि स्कूल वार सूची, स्कूल वार अंतराल, अनुमोदन मआदि की स्थिति की जांच कर सकते हैं।  इसके अलावा इस सिस्टम के माध्यम से राज्यों द्वारा भौतिक एवं वित्तीय मासिक प्रगति रिपोर्ट को भी ऑनलाइन प्रस्तुत किया जा सकता है। जिसके लिए एक डाटा विजुलाइजेशन डैशबोर्ड का निर्माण किया गया है। यह डैशबोर्ड केंद्र शासित प्रदेश एवं राज्य द्वारा दिए गए मासिक अपडेट के आधार पर सिस्टम से डाटा एकत्रित करता है।इसका कार्यान्वयन विभिन्न कदों पर भी किया जाता है जैसे –

  • शिक्षा संस्थानों का समर्थन: समग्र शिक्षा अभियान के तहत, शिक्षा संस्थानों को समर्थन प्रदान किया जा सकता है ताकि वे विभिन्न वर्गों के छात्रों को समान रूप से शिक्षा प्रदान कर सकें। इसमें शिक्षकों की प्रशिक्षण, उन्हें मौखिक और लेखनात्मक कौशलों का विकास, और शिक्षा संस्थानों के बीच अनुभव आदि शामिल होता है।
  • सामाजिक जागरूकता: इस अभियान के सफल कार्यान्वयन के लिए सामाजिक जागरूकता फैलाना भी महत्वपूर्ण है। लोगों को इस अभियान के उद्देश्यों और महत्व के बारे में जागरूक करना और उन्हें इसमें सहयोग करने के लिए प्रेरित करना होगा।
  • समारोह और कार्यक्रमों का आयोजन: समग्र शिक्षा के प्रोत्साहन के लिए समारोह, कार्यक्रम, और प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है ताकि लोग इसे समर्थन दें और उसमें भाग लें।
  • समाज से सहयोग: इस अभियान में समाज से सहयोग प्राप्त करना महत्वपूर्ण है। जनसंख्या के विभिन्न वर्गों, सामुदायिक संगठनों, और व्यक्तियों के सहयोग से इसे सफल बनाए रखना संभव है।

सिविल सेवा प्रोत्साहन योजना 

योजना का नामSamagra Shiksha Abhiyan-2.0
किसने शुरू कियाभारत सरकार ने
वर्ष2024
उद्देश्यशिक्षा के क्षेत्र में सुधार करना
लाभार्थीभारत के क्षेत्र
आधिकारक वेबसाइटhttps://samagrashiksha.in/UserLogin1.aspx#
श्रेणीCentral Govt Scheme

प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान

भारत सरकार द्वारा शुरू किया गया समग्र शिक्षा अभियान का मुख्य उद्देश्य शिक्षा के स्तर में सुधार करना है । और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करना है, तथा विभिन्न सामाजिक वर्गों, जातियों, लिंग, और क्षेत्रों में गुणवत्ता और समानता के साथ उच्च शिक्षा पहुँचना है। इस अभियान का लक्ष्य यह है कि हर व्यक्ति, निर्भीक, विशेषकर गरीब और वंचित वर्गों के छात्रों को समान अवसरों के साथ शिक्षा प्राप्त कर सके। इस योजना के माध्यम से प्री स्कूल से लेकर 12वीं कक्षा तक के सभी आयामों को शामिल किया जाएगा। ताकि छात्रों को अच्छे ढंग से उचित शिक्षा प्रदान इ जा सकें । इस अभियान से विद्यालय, बच्चों एवं शिक्षकों का विकास भी होगा। इस अभियान का एक और महत्वपूर्ण उद्देश्य है विभिन्न वर्गों के छात्रों को समर्थन प्रदान करना, जिससे उन्हें बेहतरीन शिक्षा और अवसर मिल सके।

  • इस अभियान का उद्देश्य है समाज में अद्भुत सामाजिक समानता बनाए रखना और सभी वर्गों के छात्रों को समान शिक्षा के अधिकार से लाभान्वित कराना।
  • समग्र शिक्षा अभियान का उद्देश्य छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करना है, जिससे छात्र न केवल अकादमिक रूप से समृद्धि हासिल करें बल्कि उनका सामाजिक और आधारभूत विकास भी हो।
  • समग्र शिक्षा अभियान का उद्देश्य है शिक्षा में अभिशासन को कम करना और सभी विद्यालयों में समान रूप से शिक्षा प्रदान करना ।
  • यह अभियान व्यक्तिगतीयकृत शिक्षा को प्रोत्साहित करता है ताकि हर छात्र अपनी रुचियों, प्रतिभाओं, और रूचियों के अनुसार शिक्षा प्राप्त कर सके।
  • समग्र शिक्षा अभियान का उद्देश्य है हर छात्र को उच्च शिक्षा का मौका प्रदान करना, जिससे उनके करियर और व्यक्तिगत विकास में सुधार हो।

निष्ठा योजना 

  • केंद्र सरकार द्वारा 4 अगस्त 2021 को Samagra Shiksha Abhiyan-2.0 को आरम्भ किया गया है ।
  • इस अभियान के शुरुआत नई शिक्षा नीति 2020 की सिफारिशों के अनुरूप की गई है। जिसमें शिक्षा संबंधी टिकाऊ विकास लक्ष्य भी शामिल है।
  • इस अभियान के अंतर्गत पूर्व प्राथमिक स्तर (प्री स्कूल) से लेकर 12वीं कक्षा तक के सभी आयामों को शामिल किया गया है ।
  • इसके अंतर्गत आने वाले वर्षों में चरणबद्ध तरीके से स्कूल में बाल वाटिका, स्मार्ट कक्षा, प्रशिक्षित शिक्षकों की व्यवस्था की जाएगी।
  • इसके अलावा एक आधारभूत ढांचा, व्यवसायिक शिक्षा एवं रचनात्मक शिक्षण विधियों की व्यवस्था की जाएगी।
  • स्कूलों में विविध पृष्ठभूमि, बहुभाषी जरूरत एवं बच्चों की विभिन्न क्षमताओं पर जोर देकर वातावरण तैयार किया जायेगा।
  • इस योजना के माध्यम से शिक्षक पाठ्य सामग्री की व्यवस्था भी की जाएगी। जिसके लिए प्रत्येक बच्चे पर 500 रूपये की राशि तय की गई है ।
  • इस योजना के माध्यम से लगभग 11।6 लाख स्कूल, 15।6 करोड़ बच्चे एवं 57 लाख शिक्षकों को लाभ प्रदान किया जायेगा ।
  • छात्रों को परिवहन सुविधा के लिए 6,000 रूपये की राशि का लाभ दिया जायेगा ।
  • समग्र शिक्षा अभियान के कार्यान्वयन के लिए 2।94 लाख करोड़ रुपए का बजट आबंटन किया गया है ।
  • इस योजना के बजट में 1।85 लाख करोड रुपए की बागिदारी केंद्र सरकार की होगी।
  • 1 अप्रैल 2021 से लेकर 31 मार्च 2026 तक इसका कार्यान्वयन किया जायेगा ।
  • यह अभियान शिक्षा की पहुँच को बढ़ता है और विभिन्न वर्गो और समुदायों के बच्चो को शिक्षित करने का माध्यम है।
  • समग्र शिक्षा अभियान के अभियान से माध्यम से छात्रों को उच्च शिक्षा प्रदान करना है ।

समग्र शिक्षा अभियान, जिसे भारत सरकार द्वारा प्रचारित किया जा रहा है, एक महत्वपूर्ण पहल है जो शिक्षा क्षेत्र में सुधार करने का प्रयास है। इसके मुख्य तथ्यों में शामिल हो सकते हैं:

  • समावेशी शिक्षा: इस अभियान का उद्देश्य समावेशी शिक्षा प्रदान करना है, ताकि विभिन्न वर्गों और समुदायों के छात्रों को समान रूप से शिक्षा मिले।
  • स्कूल आधारित आंकलन: इस अभियान में स्कूलों के आधारित आंकलन का उपयोग किया जाता है ताकि शिक्षा क्षेत्र में सुधार के लिए सही दिशा में कदम बढ़ाया जा सके।
  • गुणवत्ता में सुधार: समग्र शिक्षा अभियान के तहत शिक्षा में गुणवत्ता में सुधार के लिए कई कदम उठाए जा रहे हैं, जैसे कि शिक्षकों की प्रशिक्षण, शिक्षा सामग्री में सुधार, और मौखिक और लेखनात्मक कौशलों को बढ़ावा देना।
  • फिनैंशियल समर्थन: समग्र शिक्षा अभियान के तहत आर्थिक रूप से कमजोर छात्रों को वित्तीय समर्थन प्रदान किया जा सकता है ताकि उन्हें शिक्षा प्राप्त करने में कोई रुकावट ना हो।
  • शिक्षा क्षेत्र में तकनीकी सुधार: समग्र शिक्षा अभियान का हिस्सा बन सकते हैं तकनीकी सुधारों का आयोजन करना ताकि छात्रों को नवीनतम शिक्षा प्रौद्योगिकियों का उपयोग करने का मौका मिल सके।
  • सक्रिय लॉगइन – सभी राज्य एवं केंद्र शासित प्रदेशों के 740 जिले, 8100 ब्लॉक एवं 12 लाख स्कूल में जिला लॉगिन बनाया गया है।

Free Solar Chulha Yojana

  • सबसे पहले आपको आपको समग्र शिक्षा अभियान की Official Website पर जाना होगा।
  • Official Website पर आपके सामने होम पेज खुल जायेगा ।
Samagra Shiksha Abhiyan
  • होम पेज पर आपको लॉग इन फॉर्म दिखाई देगा ।
  • इस लॉग इन फॉर्म में आपको अपनी लॉगिन आईडी, पासवर्ड तथा कैप्चा कोड दर्ज करना होगा।
  • इसके बाद आपको Login के बटन पर क्लिक करना होगा ।
  • इस प्रकार आपका लॉग इन हो जायेगा ।
  • सबसे पहले आपको आपको समग्र शिक्षा अभियान की Official Website पर जाना होगा।
  • Official Website पर आपके सामने होम पेज खुल जायेगा ।
Samagra Shiksha Abhiyan
  • होम पेज पर आपको Contact Us का विकल्प दिखाई देगा । आपको उस पर क्लिक करना होगा ।
  • अब आपके सामने अगला पेज खुल जायेगा ।
  • इस पेज पर आप संपर्क विवरण (Contact Us) देख सकते है ।
समग्र शिक्षा अभियान क्या है ?

समग्र शिक्षा अभियान भारत में शिक्षा के क्षेत्र में एक सरकारी कार्यक्रम है जो प्राथमिक स्तर से लेकर कक्षा 12 तक के बच्चो को गुणवत्ता युक्त शिख्सा प्रदान करने के लिए शुरू किया गया है ।

Samagra Shiksha Abhiyan की शुरुआत कब हुई?

Samagra Shiksha Abhiyan को केंद्र सरकार द्वारा 4 अगस्त 2021 को आरंभ किया गया है।

समग्र शिक्षा अभियान का उद्देश्य क्या है ?

इसका मुख्य उद्देश्य गुणवत्ता के साथ समावेशी शिक्षा को सुनिश्चित करना है ।

समग्र शिक्षा अभियान कैसे कार्यरत है ?

यह अभियान भारत भारत के विभिन्न राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशो में संचालित है, जहां शिक्षा क्षेत्र की ज़रुरतो और चुनोतियो को ध्यान में रखते हुए नीतियों और कार्यक्रमों को संचालित किया जाता है /

समग्र शिक्षा अभियान के लाभ क्या है ?

इस अभियान के अंतर्गत शिक्षा की पहुँच , शिक्षा की गुणवत्ता  में सुधार होता है , शिक्षको को प्राप्त करने में मदद मिलती है।

Leave a Comment