बाल संगोपन योजना 2024 : डाउनलोड ऑनलाइन फॉर्म (Bal Sangopan Yojana) PDF

Bal Sangopan Yojana :- जैसा की आप जानते है की सरकार द्वारा बच्चो की पढाई को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न प्रकार की योजनाएं चलाई जाती है । इसी क्रम में महाराष्ट्र सरकार द्वारा भी बच्चो की पढाई को बढ़ावा देने के लिए बाल संगोपन योजना (Bal Sangopan Yojana) की शुरुआत की गई है । इस योजना के माध्यम से बच्चों को पढ़ाई के लिए पैसे मिलते हैं। आज हम आपको बाल संगोपन योजना क्या है । इसका उद्देश्य , लाभ , पात्रता , दस्तावेज और आवेदन प्रक्रिया आदि के बारे में विस्तार से सभी जानकारी साझा करेंगे । यदि आप भी इस योजना से संबंधित सभी जानकारी प्राप्त करना कहते है तो आप हमारे इस आर्टिकल को अंत तक पूरा पढिये ।

Bal Sangopan Yojana

 महारष्ट्र सरकार द्वारा महिला एवं बाल विकास विभाग के तहत 2008 में बाल संगोपन योजना को शुरू किया गया था । इस योजना के तहत एकल अभिभावक के बच्चे को शिक्षा हेतु प्रतिमाह ₹425 की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी । अब तक इस योजना के तहत 100 परिवार को लाभ दिया जा चूका है । इस योजना का लाभ केवल  एकल अभिभावक के बच्चों तक ही सीमित नहीं है इसके अलावा अन्य बच्चे भी योजना का लाभ उठा सकते है जैसे – माता – पिता की म्रत्यु हो गई है , परिवार में कोई आर्थिक समस्या हो, या तलाक की स्थिति हो आदि सभी बच्चे भी इस योजना का लाभ उठा सकते है । जो बच्चे इस योजना का लाभ उठाना चाहते है तो उन्हें आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आवेदन करना होगा। इस योजना का लाभ उठाने के लिए आवेदन कैसे करे की प्रक्रिया भी आर्टिकल में दी गई है ।

महाराष्ट्र सरकार द्वारा बाल संगोपन योजना को शुरू किया गया है । इस योजना का मुख्य उद्देश्य अभिभावक के बच्चो को पढाई के लिए आर्थिक सहायता प्रदान करना है । अभी भी देश में बहुत ऐसे नागरिक है जो अपनी आर्थिक स्थिति कमजोर होने के कारण अपने बच्चो को पढ़ाने में असमर्थ है । इसीलिए इस योजना के माध्यम से अभिवाक के बच्चो को उनकी पढाई के लिए हर महीने 450 रूपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी ।  इससे बच्चों को शिक्षा प्राप्त करने में किसी भी परेशानी का सामना नही करना पड़ेगा । Bal Sangopan Yojana के माध्यम से राज्य का विकास होगा तथा बेरोजगारी दर में कमी आएगी ।

महाराष्ट्र लेक लाडकी योजना 

योजना का नामBal Sangopan Yojana
शुरू की गईमहारष्ट्र सरकार द्वारा
विभागमहिला एवं बाल विकास विभाग
उद्देश्यबच्चो को शिक्षा हेतु अआर्थिक सहायता प्रदान करना
लाभार्थीमहाराष्ट्र के बच्चे
साल2024
आर्थिक सहायताहर महीने 425 रूपये
आवेदन प्रक्रियाऑनलाइन
आधिकारिक वेबसाइट https://womenchild.maharashtra.gov.in/

 

बाल संगोपन योजना को 2008 में शुरू किया गया था । इस योजना के माध्यम से बच्चों को पढ़ाई के लिए हर महीने 1125 रूपये मिलते है । कोरोना वायरस के कारन अनाथ हुए बच्चे भी इस योजना के लाभान्वित हो रहे है । यदि किसी बच्चे के माता – पिता दोनों में से किसी एक की म्रत्यु हो जाती है और एक जीवित है तो वह बच्चे भी इस योजना के शामिल हो सकते है । सरकार ने यह सुझाव दिया है की इस योजना को और बढ़ाया जाए। अभी तक इस योजना के तहत हर महीने 1125 रूपये की मदद मिलती है लेकिन सरकार के सुझाव के अनुसार अब इस योजना के तहत बच्चों को हर महीने 2500 रूपये मिल सकते हैं। इसके साथ ही बच्चो को मुफ्त शिक्षा भी मिल सकती है ।

यह बात तो आप सब जानते है की अब से कुछ समय पहले देश में कोरोना वायरस का कहर था । जिसके कारण लोग म्रत्यु का शिकार हो गये । मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री जी ने विभाग के अधिकारियो को बताया कि जिन बच्चों ने अपने माता-पिता को कोरोना वायरस में खो दिया है । उन बच्चो का ध्यान रखने के लिए कुछ नई नीतियाँ तैयार की जाएँ । मुख्यमंत्री जी ने एक मीटिंग का आयोजना किया जिसमें अनाथ बच्चों के बारे में बातचीत की गई। सूत्रों के अनुसार यह जानकारी मिली की बच्चो के खाते में ₹500000 जमा करने का प्रस्ताव रखा गया है। मुख्यमंत्री ने महिला एवं बाल विकास विभाग को निर्देश दिए है की अतिरिक्त खर्च की जानकारी भेजी जाए, ताकि ठीक से योजना बनाई जा सके।

Bal Sangopan Yojana

महाराष्ट्र रोजगार हमी योजना

  • महाराष्ट्र सरकार द्वारा बाल संगोपन योजना को 2008 में शुरू किया गया था ।
  • इस योजना का संचालन महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा किया जा रहा है ।
  • इस योजना के तहत उन अभिभावकों के बच्चों को पैसे दिए जाते है जो किसी कारण अपने बच्चों को पढ़ाने में असमर्थ है ।
  • इस योजना के माध्यम से पहर महीने 425 रूपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी ।
  • बाल संगोपन योजना के तहत अब तक 100 परिवार लाभान्वित हो चुके है ।
  • इस योजना का लाभ उठाने के लिए आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आवेदन कर सकते है ।
  • Bal Sangopan Yojana के माध्यम से राज्य का विकास होगा तथा बेरोजगारी दर में कमी आएगी ।
  • आवेदक महाराष्ट्र का स्थाई निवासी होना चाहिए ।
  • आवेदक की आयु 18 वर्ष से कम होनी चाहिए।
  • इस योजना का लाभ उठाने के लिए बेघर , अनाथ और कमजोर वर्ग के बच्चे पात्र होंगे ।

महात्मा ज्योतिबा फुले जन आरोग्य योजना

  • आधार कार्ड
  • राशन कार्ड
  • जन्म प्रमाण पत्र
  • यदि अभिभावक की मृत्यु हो गई है तो मृत्यु प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • लाभार्थी के अभिभावकों की पासपोर्ट साइज फोटो
  • बैंक पासबुक
  • सबसे पहले, आपको बाल और महिला विकास विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा ।
  • आपके सामने होम पेज खुल जायेगा ।
  • होम पेज पर आपको आवेदन करें के लिंक पर क्लिक करना होगा ।
  • लिंक पर क्लिक करते ही आपके सामने आवेदन फॉर्म खुल जायेगा ।
  • अब आपको आवेदन फॉर्म में मांगी गई सभी जानकारी को सही – सही दर्ज करना होगा ।
  • सभी जानकारी दर्ज करने के बाद आपको आपको अपने दस्तावेजो को फॉर्म के साथ अपलोड करना होगा ।
  • अब आपको सबमिट के बटन पर क्लिक करना होगा ।
  • इस प्रकार आपका बाल संगोपन योजना के अंतर्गत आवेदन हो जायेगा ।
  • सबसे पहले, आपको बाल और महिला विकास विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा ।
  • आपके सामने होम पेज खुल जायेगा ।
  • होम पेज पर आपको Contact Us के विकल्प पर क्लिक करना होगा ।
  • अब आपके सामने एक नया पेज खुल जायेगा ।
  • इस पेज पर आप संपर्क जानकारी देख सकते हैं।

हमने आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम से महाराष्ट्र बाल संगोपन योजना से सम्बंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान कर दी है यदि आप अभी भी इस योजना के सम्बन्ध में किसी भी प्रकार की समस्या का सामान कर रहे है या कोई बात समझ में नही आती है तो आप कमेंट बॉक्स में अपना सुझाव ज़रूर दीजिये । हम आपकी सहायता करने की पूरी कोशिश करेंगे । ऐसी ही राज्य एवं केंद्र सरकारी योजनाओ से सम्बंधित जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारी वेबसाइट bimsbelgaum.org को फॉलो करें । और सभी सरकारी योजनाओ का लाभ उठायें ।

बाल संगोपन योजना के किसके द्वारा शुरू किया गया है ?

महारष्ट्र सरकार द्वारा महिला एवं बाल विकास विभाग के तहत बाल संगोपन योजना को शुरू किया गया है।

बाल संगोपन योजना की शुरुआत कब हुई ?

बाल संगोपन योजना की शुरुआत 2008 में की गई थी ।

Bal Sangopan Yojana का उद्देश्य क्या है ?

Bal Sangopan Yojana का उद्देश्य, जो अभिभावक किसी कारण अपने बच्चो को नही पढ़ा पाते है उन अभिभावक के बच्चो को पढाई के लिए आर्थिक सहायता प्रदान करना है ।

Leave a Comment